Type 2 diabetes in children: बच्चो में टाइप 2 डायबिटीज के लक्षण

0
52

Type 2 diabetes in children एक पुरानी स्थिति है जो किसी भी उम्र में विकसित हो सकती है, हालांकि यह किशोरावस्था से पहले बहुत ही कम मामलों में होती है। इसमें अक्सर धीमी शुरुआत होती है, जिससे बच्चों में इसके लक्षणों का पता लगाना और निदान करना मुश्किल कार्य महसूस होता है।

नेशनल सेंटर फॉर क्रॉनिक डिजीज प्रिवेंशन एंड हेल्थ प्रमोशन के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका के डॉक्टरों ने 2011 से 2012 के बीच लगभग 5,300 बच्चों और 10 से 19 वर्ष की आयु के किशोरों में diabetes को diagnosed किया।

blood sugar या glucose को नियंत्रित करने में समस्या, diabetes की एक खास विशेषता है। अग्न्याशय आमतौर पर इंसुलिन नामक एक हार्मोन जारी करके एक व्यक्ति के blood sugar को control करते है।

यह blood sugar को कोशिकाओं में प्रवेश करने की अनुमति देता है और blood sugar के स्तर को नीचे लाता है।

हालांकि, टाइप 2 मधुमेह वाले एक बच्चे या वयस्क में, शरीर या तो पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है या इंसुलिन  insulin resistance उत्पन्न करता है। इस स्थिति में कोशिकाएं इंसुलिन हार्मोन के प्रभाव के प्रति कम संवेदनशील (less sensitive) हो जाती हैं।

Type 2 diabetes एक लंबी अवधि की बीमारी है। अगर कोई व्यक्ति पर्याप्त उपचार नहीं करता है तो गंभीर जटिलताओं का कारण बन सकती है। फिलहाल इसका कोई इलाज नहीं है।

हालांकि, blood sugar को नियंत्रित करने के लिए सावधानीपूर्वक नियंत्रित आहार, जीवनशैली समायोजन और दवा इस बीमारी से लंबे समय तक आपको मुक्त रख सकती है।

बच्चों में टाइप 2 मधुमेह के लक्षण

टाइप 2 मधुमेह वाले बच्चे में, शरीर या तो इंसुलिन के लिए प्रतिरोधी हो जाता है या यह पर्याप्त उत्पादन नहीं कर पाता है।

इसी तरह के लक्षण वयस्कों और टाइप 2 मधुमेह वाले बच्चों में विकसित होते हैं।

हालांकि, टाइप 2 डायबिटीज में अक्सर धीमी, धीरे-धीरे शुरुआत होती है। इस वजह से, लक्षणों का पता लगाना मुश्किल हो सकता है, और कुछ बच्चों में इसका लक्षण पता ही नहीं चलता है।

रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, अमेरिका में लगभग 30.3 मिलियन लोगों को मधुमेह है, और 7.2 मिलियन लोगों में इस बीमारी का निदान ही नही किया जा सकता।

Type 2 diabetes से पीड़ित बच्चे और वयस्क निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं:

  • पेशाब का बढ़ना: टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित बच्चा बार-बार पेशाब करने जा सकता है। जब रक्त में शर्करा की अधिकता होती है, तो शरीर इसके कुछ अंश मूत्र में बाहर निकलते है, और अतिरिक्त पानी इसका अनुसरण करता है। इसके परिणामस्वरूप बच्चा बार बार पेशाब करने जाता है।
  • प्यास का बढ़ जाना: Type 2 diabetes वाले बच्चे सामान्य से अधिक पानी पीना  शुरू कर सकते हैं। अधिक पेशाब से शरीर में पानी की कमी होती है और बच्चे को विशेष रूप से प्यास महसूस हो सकती है।
  • थकान: जब शरीर blood sugar का प्रभावी ढंग से उपयोग नहीं करता है, तो थकान महसूस हो सकती है। मधुमेह के अधिक गंभीर प्रभाव के साथ रहने से लगातार थकान महसूस होता है।
  • धुंधली दृष्टि: high blood sugar का स्तर आंखों के लेंस से तरल पदार्थ खींच सकता है, जिससे ध्यान केंद्रित करना कठिन हो जाता है।
  • डार्क स्किन: इंसुलिन प्रतिरोध एक skin condition के विकास को जन्म दे सकता है जिसे एसेंथोसिस नाइग्रीकंस कहा जाता है। इससे त्वचा के क्षेत्र काले पड़ सकते हैं। यह अक्सर armpits  और गर्दन के पीछे को प्रभावित करता है।
  • घाव जल्दी ठीक ना होना: High blood sugar का स्तर घावों और त्वचा संक्रमण केे बाद उन्हे जल्दी ठीक होने में बाधा उत्पन्न करता है।

कारण और जोखिम कारक

टाइप 2 मधुमेह बच्चों सहित किसी में भी विकसित हो सकता है। यह स्थिति उन लोगों में विकसित होने की अधिक संभावना है जो अधिक वजन वाले या मोटे हैं।

अतीत में, medical community ने टाइप 2 मधुमेह को या तो adult-onset या तो non-insulin dependent diabetes के रूप में संदर्भित किया था।

इंसुलिन प्रतिरोध के कारण मोटापे से टाइप 2 मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है। यह तब होता है जब अंग और ऊतक इंसुलिन के लिए उचित रूप से प्रतिक्रिया नहीं करते हैं या रक्त से पर्याप्त suger को अवशोषित नहीं करते हैं।

इंसुलिन प्रतिरोध के परिणामस्वरूप high blood suger का स्तर liver में बहुत अधिक ग्लूकोज का उत्पादन होता है।

सीडीसी के अनुसार, अमेरिका में २०१५ से २०१६ के बीच २-१ ९ वर्ष की आयु के १३. ad मिलियन बच्चे और किशोर इस समस्या से प्रभावित हुए। यह कुल आबादी का लगभग 18.5  प्रतिशत भाग है।

2017 के एक अध्ययन के लेखकों ने पाया कि 25 साल से कम उम्र के लोग जो मोटापे के लिए बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की श्रेणी में आते हैं, उनमें निम्न श्रेणी के लोगों की तुलना में टाइप 2 मधुमेह विकसित होने की संभावना चार गुना अधिक थी।

बीएमआई एक तरीका है जो height और weight को compare करके हेल्थ रिजल्ट दिखाता है।

2013 से संभावित भावी अध्ययन के अनुसार शोधकर्ताओं ने फ्रांस की 37,343 महिलाओं के सर्वेक्षण में इन परिणामों को देखा, जिन्होंने अपने बचपन के दौरान Secondhand smoke का उपयोग किया था।

मोटापे के कारण इंसुलिन प्रतिरोध होता है, जिससे टाइप 2 मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है।

टाइप 2 मधुमेह का निदान करने के लिए, डॉक्टर बच्चे के लक्षणों के बारे में पूछेंगे और वे ग्लूकोज के स्तर की जांच के लिए रक्त का नमूना ले सकते हैं।

डॉक्टर पेशाब में शर्करा के लिए एक साधारण मूत्र परीक्षण का उपयोग कर सकते हैं।

Type 2 diabetes का इलाज

Type 2 diabetes का उपचार आमतौर पर बच्चों और वयस्कों में समान होता  है।

टाइप 2 मधुमेह वाले बच्चे जो इंसुलिन ले रहे हैं, देखभाल करने वालों को यह जानना भी आवश्यक है कि कैसे और कब ग्लूकागन शॉट्स को उन स्थितियों लिया जाए। ग्लूकागन एक हार्मोन है जो यकृत से निकले ग्लूकोज को उत्तेजित करता है। यह हाइपोग्लाइसीमिया, या low blood suger के उलट के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है।

दैनिक जीवन शैली भी इसमे काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। आप अपने वजन, नियमित शारीरिक गतिविधि और आहार पर विशेष ध्यान रखें।

यह उन बच्चों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जो इंसुलिन ले रहे हैं, क्योंकि वे चिंता को बढ़ाने वाले हाइपोग्लाइसीमिया के लक्षणों को नहीं जानते है।

डॉक्टर अन्य दवाओं को भी लिख सकता है जो शरीर को इंसुलिन के लिए बेहतर प्रतिक्रिया देने में मदद करती हैं। साथ ही साथ बच्चे को अपने रक्त शर्करा के स्तर की नियमित रूप से जांच करने की आवश्यकता हो सकती है।

चिकित्सक आपके बच्चे की उम्र, जरूरत और स्थिति के हिसाब से अलग अलग आहार और उपचार लेने की सलाह देंगे।

Also Read

निवारण

टाइप 2 मधुमेह की रोकथाम के लिए बड़े पैमाने पर स्वास्थ्य से संबंधित आदतों को विकसित करना है, जैसे कि-

  •  शरीर के वजन को बनाए रखना
  • दौड़ लगाने से भी टाइप 2 मधुमेह का खतरा कम हो सकता है।
  • यदि आवश्यक हो तो वजन कम करने के लिए एक individualized program में शामिल हो।

संतुलित आहार लेना

    • यदि किसी बच्चे को टाइप 2 मधुमेह है, तो उन्हें ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) पर high ranking के साथ suger और कार्बोहाइड्रेट का सीमित सेवन करना चाहिए।
    • कार्बोहाइड्रेट पर विचार करना महत्वपूर्ण है। जीआई उस गति को मापता है जिस पर लोगों द्वारा किसी विशेष भोजन को खाने के बाद ग्लूकोज रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है। high जीआई स्कोर वाले खाद्य पदार्थ low जीआई की तुलना में रक्त शर्करा के स्तर में तेज वृद्धि का कारण बनते हैं।
    • टाइप 2 मधुमेह वाले बच्चों को आम तौर पर कम-जीआई वाले खाद्य पदार्थ खाने चाहिए। जैसे कि शकरकंद, अधिकांश फल और दलिया।
    • सफेद आटे से बने ब्रेड और पेस्ट्री blood sugar स्पाइक्स का कारण बन सकते हैं। इसके बजाय, टाइप 2 मधुमेह को रोकने के लिए एक आहार में बहुत सारे फल, सब्जियां,  प्रोटीन और साबुत अनाज शामिल होना चाहिए।

यह फूड रेंज अधिक प्रभावी होता है और blood sugar पर नियंत्रण का करता है। साथ ही टाइप 2 मधुमेह के जोखिम को कम करता है।

व्यायाम

प्रत्येक दिन कम से कम 60 मिनट तक व्यायाम करने से बच्चों को सही वजन बनाए रखने में मदद मिलेगी।

मधुमेह से पीड़ित बच्चों में एक स्वस्थ वजन स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए नियमित व्यायाम आवश्यक है। जो उन्हें किसी भी हालत में करना ही चाहिए।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) यह सिफारिश करता है कि 5 से 17 साल के बच्चे हर दिन कम से कम 60 मिनट तक मध्यम या जोरदार शारीरिक गतिविधि करे। बड़ो की जिम्मेदारी है कि वह बच्चों को बाहर खेलने के लिए भेजे और जहाँ तक संभव हो मोबाइल फोन पर वीडियो गेम से दूर रखें।

बाहर खेलने से बच्चों और किशोरों को वीडियो गेम, टेलीविजन और इसी तरह के उपकरणों के पास बैठने का समय कम मिलेगा जो उनके स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभप्रद है।

खतरा

टाइप 2 मधुमेह वाले बच्चों को संभावित खतरा होता है, जैसे कि heart attack और stroke। यह परेशानियां उस समय होंगी जब मधुमेह को अच्छी तरह से नियंत्रित नहीं किया जाएगा।

type 2 diabetes में और भी खतरे शामिल हो सकते हैं। जैसे कि-

  • उच्च रक्त चाप
  • रक्त में high कोलेस्ट्रॉल का स्तर
  • आंखों की क्षति, या मधुमेह संबंधी रेटिनोपैथी
  • तंत्रिका क्षति, या मधुमेह न्यूरोपैथी
  • गुर्दे की क्षति और विफलता, या मधुमेह अपवृक्कता

आउटलुक

टाइप 2 डायबिटीज बच्चों में बहुत तेजी से बढ़ता हुआ आम रोग बनता चला जा रहा है। क्योंकि कम उम्र में ही आज के बच्चे व्यायाम करने से कतरा रहे हैं। बाहरी चीजे ज्यादा खाते हैं। पैदल जाने के बजाय बस या किसी अन्य वाहन से स्कूल जा रहे है। दोस्तो के साथ बाहर खेलने के बजाय घर में वीडियो गेम खेल रहे हैं, इत्यदि कारणों से मोटापा बढ़ रहा है जो type 2 diabetes का कारण बन रहा है।

यदि आप भी इस समस्या से पीड़ित हैं या आपका बच्चा इस समस्या से पीड़ित हैं तो जल्द ही किसी योग्य चिकित्सक से परामर्श लें और कहेनुसार पालन करें।