Kidney failure kya hai: जानिए किडनी फेलियर के लक्षण, कारण व प्रकार

0
66

Kidney failure kya hai

किडनी आपके पेट निचले हिस्से की ओर स्थित होती है। किडनी आपके रक्त को छानती हैं और आपके शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालती हैं। किडनी आपके मूत्राशय में विषाक्त पदार्थों को भेजती है, जिसे आपका शरीर बाद में पेशाब के माध्यम से बाहर निकाल देता है। तो आज हम बात करने वाले हैं कि आखिर kidney failure kya hai.

Kidney failure की घटना तब होती है जब आपके गुर्दे रक्त से अपशिष्ट पदार्थो को पर्याप्त रूप से फ़िल्टर करने की क्षमता खो देते हैं। कई कारक है जो आपकी kidney के स्वास्थ्य और उसके कार्य में बाधा पहुँचाते है। जैसे:

  • पर्यावरण प्रदूषण
  • विषाक्त पदार्थ का उपयोग
  • पुरानी बीमारियाँ
  • गंभीर निर्जलीकरण
  • गुर्दे की चोट

यदि आपकी किडनी नियमित रूप से काम नहीं करेगी तो जल्द ही आपका शरीर विषाक्त पदार्थों से भर जाएगा।  इससे kidney failure जैसी समस्या हो सकती है। जो आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है।

kidney failure के लक्षण क्या है

आमतौर पर kidney fail  होने से पहले व्यक्ति में बीमारी के कुछ लक्षण दिखाई देते हैं परंतु कभी कभी ये लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन हम कुछ संभावित लक्षणों के अंदर में बताएंगे जिससे आप सचेत हो सकते हैं।

किडनी फेल होने से पहले संभावित लक्षण

  • पेशाब कम होना
  • आपके पैरों, टखनों और पैर के पंजों में सूजन
  • सांस फूलना
  • अत्यधिक उनींदापन या थकान
  • लगातार मतली या उल्टी का मन बने रहना
  • उलझन
  • आपके सीने में दर्द या दबाव
  • रह रह कर बेहोश होना

Kidney failure के शुरुआती लक्षण

प्रारंभिक चरण के kidney की बीमारी के लक्षण को पहचानना मुश्किल हो सकता है। वे अक्सर पहचान करने में कठिन होते हैं। यदि आप kidney की बीमारी के शुरुआती लक्षणों को समझना चाहेंगे तो वह निम्नलिखित लक्षणों के रूप में दिखाई देंगे:

    • पेशाब कम बनना
    • कुछ अंगों का सूज जाना
    • साँसों की कमी महसूस होना

Kidney failure के कारण

Kidney failure कई स्थितियों या कारणों का परिणाम हो सकती है।

जिन लोगों में इसका सबसे अधिक खतरा होता है, उनमें आमतौर पर निम्न में से एक या अधिक कारण होते हैं:

Kidney तक रक्त का कम पहुचना

आपके kidney तक रक्त प्रवाह में अचानक कमी kidney failure का कारण बन सकती है। कुछ स्थितियां जो किडनी में रक्त के प्रवाह को नुकसान पहुंचाती हैं वो निम्नलिखित है:

दिल का दौरा

दिल की बीमारी

लिवर की बीमारी

डिहाइड्रेशन

एलर्जी

गंभीर संक्रमण (सेप्सिस)

High blood pressure और anti-inflammatory medications दवाएं भी किडनी में रक्त के प्रवाह को सीमित कर सकती हैं।

Urine elimination समस्या

जब आपका शरीर बराबर यूरिन नही बना पाता है, तो विषाक्त पदार्थ की मात्रा आपके शरीर में बढ़ जाती है। कुछ कैंसर मूत्र मार्ग को अवरुद्ध कर सकते हैं, जैसे:

    • प्रोस्टेट (prostate)
    • पेट (colon)
    • ग्रीवा (cervical)
    • मूत्राशय (bladder)

अन्य रोग भी पेशाब में रुकावट पैदा कर सकते है और संभवतः kidney failure हो सकती है, जिसमें शामिल हैं:

    • पथरी
    • एक बढ़े हुए प्रोस्टेट
    • आपके मूत्र पथ के भीतर रक्त के थक्के
    • आपकी नसों को नुकसान जो आपके मूत्राशय को नियंत्रित करता है

अन्य कारण

किडनी फेल होने में कुछ अन्य चीजें शामिल हैं:

  • आपके गुर्दे में या उसके आसपास एक रक्त का थक्का
  • संक्रमण
  • नशीली दवाएँ और शराब
  • रक्त वाहिकाओं में सूजन
  • ल्यूपस (एक ऑटोइम्यून बीमारी जो शरीर के कई अंगों में सूजन पैदा कर सकती है)
  • ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस (kidney की Small blood vessels में  सूजन)
  • मल्टीपल मायलोमा (अस्थि मज्जा में प्लाज्मा कोशिकाओं का एक कैंसर)
  • स्क्लेरोडर्मा (ऑटोइम्यून स्थिति जो आपकी त्वचा को प्रभावित करती है)
  • कीमोथेरेपी दवाएं (जो कैंसर और कुछ ऑटोइम्यून बीमारियों के इलाज में प्रयोग की जाती है)
  • एंटीबायोटिक्स
  • अनियंत्रित मधुमेह

जानिए एचआईवी कैसे होता है और इससे कैसे बचें: HIV kaise hota hai

बालों में चमक लाने के 15 बेहतरीन उपाय: 15 way to get shining hair in hindi

Kidney failure के प्रकार

गुर्दे की विफलता के पांच विभिन्न प्रकार हैं:

Acute prerenal kidney failure

kidney में अपर्याप्त रक्त प्रवाह Acute prerenal kidney failure का कारण बन सकता है। पर्याप्त रक्त प्रवाह के बिना kidney रक्त से विषाक्त पदार्थों को फ़िल्टर नहीं कर सकती। इस प्रकार kidney failure की समस्या आमतौर पर तब ठीक हो सकती है, जब आपका डॉक्टर blood flow को निर्धारित करता है।

Acute intrinsic kidney failure

Acute intrinsic kidney failure का परिणाम सीधे चोट से हो सकता है, जैसे शारीरिक प्रभाव या दुर्घटना। रक्त में टॉक्सिन बढ़ जाने और इस्केमिया के वजह से भी यह समस्या पैदा हो सकती है। जिससे किडनी में ऑक्सीजन की कमी हो जाती हैं।

इस्केमिया निम्नलिखित कारण सेे हो सकता है:

    • अत्यधिक रक्तस्राव
    • झटका
    • Kidney के blood vessels में रुकावट

Chronic prerenal kidney failure

जब एक extended period के लिए Kidney में पर्याप्त रक्त प्रवाह नहीं होता है, तो गुर्दे सिकुड़ने लगते हैं और कार्य करने की क्षमता खो देते हैं।

Chronic intrinsic kidney failure

यह तब होता है जब आंतरिक गुर्दे की बीमारी के कारण Kidney को long-term damage होता है। जैसे कि गंभीर रक्तस्राव या ऑक्सीजन की कमी

Kidney failure का test

ऐसे कई परीक्षण हैं जिनका उपयोग आपका डॉक्टर Kidney failure के निदान के लिए कर सकता है।

Urine test

आपका डॉक्टर परीक्षण करने के लिए मूत्र का नमूना ले सकता है, जिसमें असामान्य protein or sugar की मात्रा को चेक किया जाता है।

यह परीक्षण red and white blood cells (RBC और WBC) की मात्रा को मापता है, बैक्टीरिया के उच्च स्तर की तलाश करता है, और ट्यूब आकार के कणों की उच्च संख्या की खोज करता है, जिन्हें सेलुलर कोशिका कहा जाता है।

Urine volume measurements यूरिन की मात्रा का माप

urine output को मापना Kidney failure का निदान करने में मदद करने के लिए सबसे सरल परीक्षणों में से एक है। उदाहरण के लिए, कम मूत्र उत्पादन सुझाव दे सकता है कि गुर्दे की बीमारी एक मूत्र रुकावट के कारण होती है, जो कई बीमारियों या चोटों का कारण बन सकती है।

Blood test (रक्त परीक्षण)

आपका डॉक्टर आपके गुर्दे द्वारा फ़िल्टर किए गए पदार्थों को मापने के लिए रक्त परीक्षण के लिए कह सकता है, जैसे कि as blood urea nitrogen (BUN) (बीयूएन) और क्रिएटिनिन (सीआर)। इनके स्तरों में तेजी से वृद्धि  Kidney failure का संकेत दे सकती है।

Imaging के द्वारा

अल्ट्रासाउंड, एमआरआई, और सीटी स्कैनप्रोविड का भी परीक्षण किया जा सकता है। यह आपके डॉक्टर को आपके Kidney में रुकावट या असामान्यताएं दिखा देता है

Kidney के tissue के sample द्वारा

ऊतक (tissue) के नमूनों की जांच  स्कारिंग या संक्रामक जीवों का पता लगाने के लिए की जाती है। आपका डॉक्टर ऊतक के नमूने को इकट्ठा करने के लिए किडनी की बायोप्सी का उपयोग करेगा। बायोप्सी एक साधारण प्रक्रिया है जो आमतौर पर आपके जागने के दौरान की जाती है।

डॉक्टर आपको एक local anesthetic देगा ताकि आप कोई दर्द महसूस न करें। फिर वे नमूना प्राप्त करने के लिए आपकी त्वचा के माध्यम से और आपके किडनी में बायोप्सी सुई डालेंगे।

ये परीक्षण यह निर्धारित करने में मदद करता हैं कि क्या आपकी किडनी सही तरीके से काम कर रही हैं या नही, जैसा कि उन्हें करना चाहिए। अन्य गुर्दा समारोह परीक्षण आपके डॉक्टर को यह निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं कि लक्षण क्या हैं।

Kidney failure के चरण

Kidney failure को पांच चरणों में वर्गीकृत किया गया है।

प्रथम चरण

यह चरण बहुत mild होता है। इसमे आप किसी लक्षण का अनुभव कर सकते हैं और कुछ complications भी दिखाई दे सकते हैं। परंतु कोई नुकसान नहीं होता।

स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने के संतुलित आहार खाना, नियमित रूप से व्यायाम करना और तंबाकू उत्पादों का उपयोग ना करना बहुत लाभदायक हो सकता है।

यदि आपको diabetes है, तो आपको अपने blood sugar को manage करने की आवश्यकता है।

द्वितीय चरण

इस चरण में गुर्दे की बीमारी को एक हल्के रूप में माना जाता है, लेकिन मूत्र में प्रोटीन या physical damage जैसे लक्षणों को देखकर इस चरण को पहचाना जा सकता है।

चरण 1 में मदद करने वाली समान जीवन शैली को इस चरण में दृष्टिकोण अभी भी चरण 2 में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा अपने चिकित्सक से अन्य जोखिम कारकों के बारे में बात करें जो रोग को और अधिक तेजी से बढ़ा सकते हैं। इनमें heart disease, inflammation और blood disorders शामिल हैं।

तृतीय चरण

इस स्तर पर गुर्दे की बीमारी को मध्यम माना जाता है। आपकी किडनी ठीक से काम नहीं करती जैसा कि उन्हें करना चाहिए।

तृतीय चरण में किडनी की बीमारी को कभी-कभी 3 ए और 3 बी में विभाजित किया जाता है। एक रक्त परीक्षण जो आपके शरीर में अपशिष्ट उत्पादों की मात्रा को मापता है, वही इन दोनों के बीच अंतर करता है।

इस स्तर पर लक्षण अधिक स्पष्ट हो जाते हैं जो रोगी को समझ आने लगती हैं। हाथों और पैरों में सूजन, पीठ में दर्द और बार-बार पेशाब में बदलाव होने की संभावना होती है।

चतुर्थ चरण

चतुर्थ चरण में किडनी की बीमारी को मध्यम से गंभीर माना जाता है। किडनी अच्छी तरह से काम नहीं करती हैं, लेकिन आपको अभी तक kidney failure की समस्या नही हुई हैं। लक्षणों में anemia, high blood pressure और bone disease जैसी समस्याए शामिल हो सकती हैं।

पांचवा चरण

पांचवे चरण में आपको उल्टी और मतली, सांस लेने में परेशानी, खुजली वाली त्वचा, और बहुत कुछ समस्याएं देखने को मिलेंगी। तब आपको समझ जाना चाहिए कि आप kidney failure की समस्या से पीड़ित हो चुके हैं।

इस इस चरण में आपको नियमित डायलिसिस या kidney transplant की आवश्यकता होगी।

Kidney failure का उपचार

Kidney failure के लिए कई उपचार हैं। आपको जिस प्रकार के उपचार की आवश्यकता है वह आपके Kidney failure के condition पर निर्भर करता है। फिर भी हम आपको कुुुछ  उपचार बताने जा रहे हैं जो निम्नलिखित है:

डायलिसिस

डायलिसिस एक मशीन का उपयोग करके रक्त को फिल्टर और शुद्ध करता है। मशीन kidney के तरह कार्य करती है।

आपको डायलिसिस के साथ कम पोटेशियम, कम नमक वाले आहार को सेवन करने की आवश्यकता हो सकती है।

डायलिसिस Kidney failure का इलाज नहीं करता है, लेकिन यदि आप नियमित रूप से निर्धारित उपचार पर जाते हैं तो यह आपके जीवन का विस्तार कर सकता है।

किडनी प्रत्यारोपण

एक अन्य उपचार विकल्प किडनी प्रत्यारोपण (kidney transplant) है। एक transplanted kidney सामान्य रूप से काम कर सकती है, और अब आपको डायलिसिस की आवश्यकता नहीं होगी।

आपके शरीर को नई किडनी को अस्वीकार करने से रोकने के लिए सर्जरी के बाद आपको इम्यूनोस्प्रेसिव ड्रग्स लेना चाहिए। इन दवाओं के अपने दुष्प्रभाव हैं, जिनमें से कुछ गंभीर हैं।

प्रत्यारोपण सर्जरी सभी के लिए सही उपचार विकल्प नहीं हो सकता है। सर्जरी असफल भी हो सकती है।

अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें कि क्या आप किडनी ट्रांसप्लांट के लिए अच्छे योग्य है या नहीं।

diet for Kidney failure

Kidney failure से पीड़ित लोगों के लिए कोई विशिष्ट आहार नहीं है। आप जो खाते हैं केवल उसके बारे में थोड़ी जानकरी रखकर आप इस समस्या से बच सकते हैं। हालांकि यदि आप डॉक्टर के पास जाते हैं तो डॉक्टर आपको कुछ चीजो का सेवन करने के लिए कह सकते हैं। जो निम्नलिखित है-

  • सोडियम और पोटेशियम का सीमित मात्रा में उपयोग: आप इन दोनों पोषक तत्वों का कितना हिस्सा ले रहे हैं, इस पर नज़र रखें। दोनों का प्रति दिन 2,000 मिलीग्राम से कम सेवन करें।
  • फास्फोरस की मात्रा को सीमित करें: सोडियम और पोटेशियम की तरह, एक दिन में आपके द्वारा खाए जाने वाले फास्फोरस की मात्रा पर कैप रखना अच्छा होता है। फास्फोरस की मात्रा को 1,000 मिलीग्राम से नीचे रहने की कोशिश करें।

protein guidelines को follow करें: प्रारंभिक और मध्यम kidney disease में, आपको प्रोटीन की खपत में कटौती करना चाहिए। हालांकि, आप डॉक्टर केे सलाह पर, अंत में अधिक प्रोटीन खा सकते हैं।

इन सामान्य दिशानिर्देशों से परे, आपको kidney failure होने पर कुछ खाद्य पदार्थों से बचने के लिए भी कहा जा सकता है।

Kidney failure urine color

आपके मूत्र का रंग आपके शरीर के स्वास्थ्य में एक small window की तरह है। जब तक किडनी को नुकसान नहीं पहुंचता, तब तक यह आपको आपके kidney के कार्य की स्थिति के बारे में ज्यादा नहीं बताता।

फिर भी, मूत्र के रंग में परिवर्तन आपको कुछ मुद्दों से सावधान कर सकता है।

  • साफ या हल्का पीला: यह रंग बताता है कि आप अच्छी तरह से हाइड्रेटेड हैं। यह अधिकतर मामलों में यह दर्शाता है कि आप पूरी तरह ठीक है।
  • गहरा पीला: इसका मतलब है कि आपके शरीर में पानी की कमी है। आप अधिक पानी पिए और सोडा, चाय, या कॉफी में कटौती करने की कोशिश करें।
  • नारंगी: यह भी आपके शरीर में कम पानी का संकेत हो सकता है, या यह आपके ब्लड में पित्त का संकेत हो सकता है। परंतु इस वजह से kidney की कोई बीमारी नही होती।
  • गुलाबी या लाल: गुलाबी या थोड़ा लाल रंग आपके मूत्र में ब्लड होने का संकेत दे सकता है। यह कुछ खाद्य पदार्थों जैसे कि बीट या स्ट्रॉबेरी के कारण भी हो सकता है।
  • झागदार: अतिरिक्त बुलबुले के साथ मूत्र आना यह दर्शाता है कि आपके पेशाब में प्रोटीन आ रहा है। पेशाब में प्रोटीन आना kidney की बीमारी का संकेत है।

मधुमेह

मधुमेह kidney failure का सबसे आम कारण है। अनियंत्रित high blood sugar गुर्दे को नुकसान पहुंचा सकता है। क्षति समय के साथ बदतर होती चली जा सकती है।

यदि आपको अपनी किडनी के बारे में कोई चिंता है, तो अपने डॉक्टर तक पहुंचने में संकोच न करें।