hastmaithun side effects in hindi: जानिए हस्थमैथुन के लक्षण, कारण व उपाय

0
194

आज हम hastmaithun side effects in hindi के बारे में बात करेंगे।

Hasthmaithun की उत्तेजना और अंततः यौन सुख प्राप्त करने के रूप में परिभाषित किया गया है। जो लोग हस्तमैथुन में संलग्न होते हैं वे हस्थमैथुन के दौरान ऐसे यौन सुख प्राप्त करते हैं, जैसे दो लोगों के बीच एक सामान्य यौन क्रिया में प्राप्त किया जाता है।

यह जानना जरूरी है कि हस्तमैथुन में संलग्न होने का मतलब अक्सर हस्तमैथुन करने का आदी होना नहीं होना चाहिए। हस्तमैथुन की लत क्या है इसकी अच्छी समझ होनी चाहिए।

सूचना और प्रौद्योगिकी की प्रगति के साथ, हस्तमैथुन के माध्यम से यौन आनंद बढ़ाने के अधिक तरीके बताएं जाते हैं। वह व्यक्ति जो यौन सुख का अनुभव करना चाहता है वह हस्तमैथुन कर सकता है।

यह वास्तव में पीढ़ी डर पीढ़ी चलता रहता है। यहां तक ​​कि जिन लोगों के सेक्स पार्टनर होते हैं वे भी इसमें लिप्त होते हैं। किशोरों में हस्तमैथुन भी एक सामान्य घटना है क्योंकि वे बड़े होते हैं और यौन सुख प्राप्त करने का अनुभव शुरू कर डेते हैं।

यह आम तौर पर उनके लिए एक बहुत बड़ा बदलाव होता है क्योंकि उनके शरीर परिपक्व हो रहे होते है और बहुत सारे बदलावों से गुजर रहे होते हैं।

जब यह मॉडरेशन यानी कि एक लिमिट में किया जाता है, तो यह फायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह यौन इच्छा को राहत देने और यौन संचारित रोगों और बीमारियों को रोकने का एक बेहतरीन तरीका हो सकता है।

दूसरी ओर, अत्यधिक हस्तमैथुन का नकारात्मक प्रभाव बहुत अधिक है।

हस्तमैथुन की लत का मनोविज्ञान

हस्तमैथुन की लत में, दो पदार्थ एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं, डोपामाइन, और एंडोर्फिन

डोपामाइन एक इनाम न्यूरोट्रांसमीटर है जो किसी व्यक्ति को खुशी महसूस करने की अनुमति देता है। एंडोर्फिन रसायन हैं जिसे आपका शरीर तनाव और शारीरिक परिश्रम का मुकाबला करने के लिए उपयोग करता है, जिससे आप आराम करके पुनः उस कार्य को करने के लिए सक्षम हो जाते हैं।

जब एक व्यक्ति हस्तमैथुन कर रहा होता है तो उस समय वह डोपामाइन रिलीज करता है और व्यक्ति एक सुखद अनुभव प्राप्त करता है जो एक चरमोत्कर्ष के दौरान सेक्स के समय आता है। चरमोत्कर्ष के बाद, एंडोर्फिन वीर्य का स्राव करता है जिससे व्यक्ति को काफी आराम महसूस होता है और वह कभी-कभी सो जाते हैं।

जब कोई व्यक्ति केवल हस्थमैथुन पर निर्भर हो जाता है और तनावपूर्ण जीवन स्थितियों या मानसिक समस्याओं से बचने के लिए इसका उपयोग करता है, तो यह हस्तमैथुन के लत को बुलावा देने का कार्य करता है।

हस्तमैथुन की लत उस वक्त चिंता का कारण बन सकती है जब व्यक्ति थोड़ी सी उत्तेजना होने पर ही हस्थमैथुन करने लगता है।

हस्तमैथुन की लत के प्रभाव

अत्यधिक हस्तमैथुन के खतरे क्या हैं?

अत्यधिक हस्तमैथुन के खतरों में शामिल हैं:

    • पोर्नोग्राफी देखने में बहुत अधिक घंटे खर्च करने के कारण अन्य कामो का छुट जाना
    • पोर्न देखकर जल्द से जल्द स्खलित होने के चक्कर में हस्थमैथुन का उपयोग
    • कम आत्म-सम्मान और असामाजिक व्यवहार
    • गुप्तांगों में जलन होना
    • उत्तेजना का कम हो जाना

जैसा कि पहले संकेत दिया गया है, नियंत्रित तरीके से किए जाने पर हस्तमैथुन के कुछ लाभ हैं। एक आदमी जो अपने शुक्राणु दान करना चाहता है वह हस्तमैथुन कर सकता है।

एक व्यक्ति जो किसी के साथ भी शरीरिक संबंध नही बनाता या जिसका कोई पार्टनर नही है, वह अपने कामोत्तेजना को राहत देने के लिए हस्तमैथुन कर सकता है और साथ ही साथ यौन संचारित रोगों और संक्रमणों के आशंका की संभावना को कम कर सकता है।

हम सभी जानते हैं की जब किसी भी चीज की अति हो जाती है तो उसका गलत परिणाम सामने आता है। इसी तरह जब अत्यधिक हस्थमैथुन किया जाता है, तो यह एक वास्तविक समस्या बन जाती है।

सेहत के साथ होती है समय की हानि

सेहत के साथ-साथ समय की हानि भी हो सकती है क्योंकि उक्त व्यक्ति सार्थक कार्य में भाग लेने के बजाय हस्तमैथुन करने में बहुत समय व्यतीत करेगा।

जो लोग हस्तमैथुन के आदी हैं, वे अश्लील क्लिप देखने में कई घंटे बिता देते हैं और इस तरह अपना सेहत और समय बर्बाद करते चले जाते हैं।

यह एक परिवार के साथ-साथ पारस्परिक संबंधों पर कई प्रभाव डाल सकता है। वह व्यक्ति जो अत्यधिक हस्तमैथुन करता है वह जीवनसाथी से अवास्तविक यौन अपेक्षाएं करने लगता है।

इसके बाद शादियों के टूटने, तनाव में रहने, रिश्तों में दरार पड़ने एवं किसी अन्य इंसान के तरफ आकर्षित होने जैसी घटनाएं सामने आती है। जो कि काफी दुख की बात है।

मनोवैज्ञानिक रूप से इस तरह के व्यक्ति कम आत्म-सम्मान और असामाजिक व्यवहार उत्त्पन्न कर लेते हैं क्योंकि वे खुद को स्वार्थी और यौन रूप से अपवित्र महसूस करने लगते हैं।

हस्तमैथुन के आदी किशोर बदमाशी की ओर बढ़ जाते हैं एवं बलात्कार जैसी घटनाओं को अंजाम देते हैं। कभी-कभी वे अपने कामोत्तेजना को शांत करने के लिए सार्वजनिक रूप से हस्तमैथुन करते हुए पाये जाते हैं। जो कि काफी शर्म की बात है।

यह बदले में, माता-पिता और बच्चे के बीच दरार पैदा कर सकता है, और इस प्रक्रिया में अन्य बुरी आदतों जैसे नशीली दवाओं के दुरुपयोग को घर और स्कूल पर दबाव का सामना करना पड़ता है।

हस्तमैथुन की लत के कारण व्यक्ति और भी अधिक कामुक यौन प्रवृत्ति की ओर चला जाता है क्योंकि एक व्यक्ति यौन सुख प्राप्त करने के लिए नए-नए तरीके ढूंढता है।

आदमी चरम यौन आदतों को विकसित करना शुरू कर सकता है जैसे कि चाइल्ड पोर्नोग्राफ़ी देखना, नग्न शरीर की एक झलक पाने के लिए खिड़कियों या की-होल से झांकना और यहां तक ​​कि अपने कामोत्तेजना को शांत करने के लिए बच्चो छेड़छाड़ करना।

महिलाएं भी हो जाती है हस्थमैथुन की आदी

महिलाएं भी हस्थमैथुन का शिकार बन सकती है और विभिन्न चीजों जैसे कि सब्जी, पेन, उंगली या सेक्स टॉयज का प्रयोग करके केवल अपने कामोत्तेजना को संतुष्ट करती है।

ये सभी नकारात्मक प्रभाव हैं जो अत्यधिक हस्तमैथुन के परिणामस्वरूप उत्पन्न होते हैं। इस तरह का व्यवहार असामाजिक है और स्थिति को ठीक करने के लिए इसके उपचार व रोकथाम की आवश्यकता है।

पुरुषों और महिलाओं के बीच हस्तमैथुन में अंतर

पुरुषों और महिलाओं में हस्तमैथुन की लत के बीच बहुत अंतर नहीं है। पुरुष आम तौर पर खुद को संतुष्ट करने के लिए लिंग को तब तक मालिश करते हैं जब तक कि वे स्खलित नही हो जाते। कुछ ऐसे भी लोग हैं जो यौन उत्तेजना को शांत करने के लिए सेक्स डॉल्स का उपयोग करते हैं।

महिलाएं अपने क्लिटोरिस और योनि को उत्तेजित करके हस्तमैथुन करती हैं क्योंकि इससे वे कामोत्तेजना और आनंद प्राप्त करती हैं।

पुरुषों की तरह ही, कुछ महिलायें अपने हाथों का उपयोग करती हैं जबकि अन्य सेक्स टॉय जैसे वाइब्रेटर का उपयोग करती हैं। समाज पुरुष के हस्तमैथुन के बारे में अधिक ग्रहणशील होता है जबकि वह महिला का विरोध करता है।

इस वजह से, कई महिलाएं अपनी यौन इच्छाओं के बारे में बात करने से कतराती हैं क्योंकि उन्हें डर रहता है कि पता नहीं समाज उन्हें किन नजरो से देखेगा।

हस्तमैथुन के परिणामस्वरूप महिलाएं संक्रमित हो जाती है क्योंकि हस्थमैथुन के दौरान लार को चिकनाई के रूप में उपयोग करने से योनि में पाए जाने वाले बैक्टीरिया और लार मेंं पाए जाने वाले बैक्टेरिया के बीच संक्रमण हो जाता है।

अध्ययन बताते हैं कि महिलाओं की तुलना में पुरुष ज्यादा हस्तमैथुन करते हैं। शोधकर्ताओं के एक समूह ने अपने प्रकाशन (द सोशल ऑर्गनाइजेशन ऑफ सेक्शुअलिटी) में बताया कि लगभग 3000 लोगों के इंटरव्यू के बाद, उन्हें पता चला कि 63.7% पुरुषों की तुलना में 41.7% महिलाओं ने उस वर्ष हस्तमैथुन किया था।

सैमुअल और सिंथिया जेनस द्वारा यौन व्यवहार पर पेश किए गए रिपोर्ट के अनुसार, 10% महिलाओ ने सर्वेक्षण में भाग लिया, उनका कहना है कि वे अक्सर हस्तमैथुन करती हैं (सप्ताह में कुछ बार) जो कि पुरुषों से 25% कम था।

हस्तमैथुन की लत के आँकड़े

सांख्यिकीय रूप से, यह दिखाया गया है कि महिलाओं की तुलना में पुरुष अधिक हस्तमैथुन के आदी हैं। 18 से 30 वर्ष की आयु के पुरुष उन लोगों का सबसे बड़ा प्रतिशत बनते हैं जो अत्यधिक हस्तमैथुन करते हैं।

यह प्रॉमिस कीपर्स ऑर्गनाइजेशन द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार था। सर्वेक्षण में यह भी पाया गया है कि हस्तमैथुन की लत धार्मिक लोगों में भी उतनी ही आम है, जितनी कि उन लोगों में है।

इंटरनेट पर पोर्नोग्राफिक सामग्री की पहुंच के कारण लोग वर्तमान समय में बहुत अधिक हस्तमैथुन करते हैं और (hastmaithun side effects in Hindi 10) के शिकार हो जाते है। 10 साल से कम उम्र के लड़के यौन सुख के हस्थमैथुन का सहारा ले रहे हैं।

Heart attack solution- जानिए हार्ट अटैक से बचने के उपाय हिंदी में

 बवासीर क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण व उपाय

Mota hone ka upay: मोटा होने के लिए करे इन चीजो का सेवन

हस्तमैथुन की लत से कौन ग्रस्त है?

18-30 वर्ष की आयु के बीच के पुरुष किसी भी अन्य आयु वर्ग की तुलना में अधिक हस्तमैथुन करते हैं। मॉडर्न समय में इंटरनेट पर अश्लील सामग्री की पहुंच के कारण युवा लोगों में हस्तमैथुन के प्रति दिलचस्पी बढ़ी है।

हस्तमैथुन की लत पर कैसे अंकुश लगाएं

अत्यधिक हस्तमैथुन को कैसे रोकें?

कुछ सहायक गतिविधियाँ अत्यधिक हस्तमैथुन को रोकने में मदद कर सकती हैं, जिनमें शामिल हैं:

    • स्वयंसेवक कार्यक्रमों में भाग लेना
    • खेलकूद में व्यस्त
    • कला और लेखन जैसी रचनात्मक प्रतिभाओं की खोज करना
    • सुबह की सैर करना
    • एकांत से बचना
    • लोगों के साथ बातचीत
    • अपने घर और कंप्यूटर से अश्लील सामग्री हटाना

उपर्युक्त तरीको का पालन करके अत्यधिक हस्तमैथुन को रोका जा सकता है आप अपनी ऊर्जा को वैकल्पिक मार्ग पर लगा सकते हैं। जैसे कि स्वयंसेवक कार्यक्रमों में भाग लेना, खेल में संलग्न होना और लेखन और कला के माध्यम से अपनी रचनात्मक प्रतिभाओं की खोज करना।

यदि आप काम पर जाने से ठीक पहले अपने आप को ज्यादातर हस्तमैथुन करते हुए पाते हैं, तो कुछ और करने की कोशिश करें, जैसे कि सुबह का टहलना आपको काफी शांति प्रदान कर सकता है। एकांत से बचना और लोगों से बातचीत करना भी अच्छा है। यदि आपके पास अपने फ़ोन या कंप्यूटर पर अश्लील सामग्री है, तो उन्हें हटा दें। यह एक महत्वपूर्ण कदम है।

सही मानसिकता विकसित करें और विश्वास करें कि आपकी लत पर अंकुश लगाया जा सकता है।

बहुत से लोग हस्तमैथुन की लत से पीड़ित होते हैं लेकिन अक्सर यह स्वीकार करने से कतराते हैं कि उन्हें कोई समस्या है। इस आदत को दूर करने का सबसे पहला कदम यही है कि आप इस बात को स्वीकार कर ले कि आप हस्तमैथून के लत से पीड़ित हैं।   फिर इसे रोकने के लिए जानबूझकर प्रयास करें।

Conclusion

हमें उम्मीद है कि आपको हमारा पोस्ट (hastmaithun side effects in hindi) जरूर पसंद आया होगा। यदि आपके मन में भी कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट के माध्यम से जरयर बताएं। साथ ही साथ इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें